पढाई कैसे करें, सबसे अच्छी ट्रिक अपनाकर बेहतर बनाएं अपनी पढाई का लेवल

पढाई कैसे करें, सबसे अच्छी ट्रिक अपनाकर बेहतर बनाएं अपनी पढाई का लेवल

क्या आपको पढाई के दौरान आलस आता है, क्या आपको पढाई करने का मन नहीं करता और अगर करता है तो बीच में ही उठ जाते हो। आप प्रथम भी आना चाहते हो लेकिन वो हो नहीं पाता। अगर आपका जवाब हां में हो तो यह आर्टिकल आपके लिए ही है। आज हम आपको पढाई करने के बेहतरीन तरीके बताएगें जिनमें आप पढाई में अच्छे माक्र्स ला सकोगे। कई बार बच्चे को याद रखने में परेशानी होती है और वह अच्छी पढाई न करने पर डिप्रेशन में चला जाता है क्योंकि उसका एग्जाम अच्छा नहीं हो पाता। यह आर्टिकल बच्चों के माता पिता के लिए भी क्योंकि कई बार माता पिता बच्चों के भरोसे होते हैं और बच्चे माता पिता के भरोसे होेते हैं। इसलिए पढाई का मामला बीच में अटक जाता है और एग्जाम के आने पर दोनों तरफ से डर लगता है। माता पिता को लगता है कि बच्चा फेल ना हो जाए और बच्चे का लगता है कि अगर फेल हो गया तो माता पिता पता नहीं क्या व्यवहार करेंगें। तो आईए जानते हैं कि बच्चे को पढाई के दौरान क्या क्या करना चाहिए।

कैसे करें पढाई 1

1. पढाई के लिए शांति वाला स्थान ढूंढे
सबसे पहले वह जगह ढूंढे जहां आप तक किसी की आवाज ना आए। कई बार हमारा दिमाग दूसरी चीजों पर चला जाता है और पढाई से ध्यान एक दम भटक जाता है और पढाई में मन नहीं लगता।
उदाहरण को समझें
(आप कमरें में बैठे पढ रहें है और पडोसी की जोर से आवाज चिल्लाने की आवाज आए तो आपका ध्यान तुरंत भटक जाएगा और आपका दिमाग उसकी दूसरी आवाज सुनने को आतुर हो जाएगा, जब दूसरी आवाज लगाएगा तो आपका ध्यान पूरा भटक जाएगा, इसलिए एंकात स्थान को ग्रहण करें)

2. आपको अपना 100 प्रतिशत देने का वायदा करना है
अगर आप पढाई करने बैठते हैं तो आपको अपने आप से यह वायदा करना है कि मैं पढाई को 100 प्रतिशत दूगां। कई बार बच्चे पढाई के नाम पर फोरमेलटी करते हैं और बीच में पढाई छोड देते हैं।
उदाहरण को समझें
(आप मेज पर बुक लेकर बेठे, आपका दोस्त आ गया। आप उसे कहते हैं कि तुम बैठो मैं आया। आपको आपके दोस्त का ज्यादा ध्यान रहेगा और आप पढाई पर 40 प्रतिशत ही देकर चले जाएगें।)

3. मन को कहीं मत जाने दो
आप पढाई करने बैठते हो तो सबसे पहले अपने मन को कहो की कहीं मत जाना। मेरी पढाई पर ही रहना। अब किताब उठाकर कहो कि यह कितना आसान है। मैं इसे तो चुटकियों में कर सकता हूं। मेरे लिए ये कुछ भी नहीं है।
उदाहरण को समझें
(जब आप पढाई करने बैठते हो तो ंकई बार कुछ कार्य पेडिंग पर छोड देते हो और कहते हो कि यह बाद में कर लूगां। आपका मन टिकेगा नहीं। आप सबसे पहले अपने मन को कंट्रोल करो और उसे यहीं रहने का आग्रह करो।)

कैसें करें पढाई 2

4. सेल्फ कान्फिडेंस रखना होगा
जब आप पढाई करने बैठतें हैं तो आप बुक के पन्नें पलट-पलट कर देखते हैं और मन में सोचते हैं कि यह बहुत बडा है, क्या इस समय यह हो पाएगा और अपना सेल्फ कान्फिडेंस डाउन होता चला जाएगा। इसलिए अपना आत्मविश्वास बनाए रखें।
उदाहरण को समझिए
( आपने मैथ की किताब खोली और आपको दिखा कि यह इतना बडा सवाल कैसे हल कर सकता हूं। और आप उसी दौरान कई ओर सवाल देखोगे। इसलिए अपने आपको यह बताना है कि मेरा दिमाग इस सवाल से कई गुणा ज्यादा बडा है, यह कुछ भी नहीं है। इससे आपका आत्मविश्वास बढेगा और सवाल को आप जल्द हल कर लेंगे, गांरटी के साथ।)

5. अपने विषय को बदल-बदल कर पढें।
जब आप उपरोक्त सभी चीजें करने में निपुण हो जाओ तो पढाई करना शुरू कर दो। अपने विषय को बदल बदल कर पढो। साईंस यह कहती है कि हम एक विषय को पढ पढकर बोर हो जाते हैं और हमारे अंदर आलस भर जाता है और जल्द ही पढाई से उब जाते हैं। इसलिए विषय बदल बदल कर पढाई करें। हमारा दिमाग विषय में दी गई जानकारी को अच्छे से स्टोर नहीं कर पाता इसलिए कम जानकारी हमारें दिमाग में रह जाती है।
उदाहरण को समझें
(आप सबसे पहले अपने मन पंसद का विषय (साईंस) लें। आप उसे पढें। उसका टास्क पूरा हो जाए तो अगला विषय (मैथ) लें और उसे पढें। इस तरह आप विषय बदल बदल कर पढाई करें।)

6. रटटा मारने की कोशिश बिल्कुल भी ना करें।
यदि आप किसी विषय को पढ रहें है तो रटटा मारने की कोशिश बिल्कुल भी ना करें। भले ही आप थोडा पढ लें, रटटा बिल्कुल भी ना मारें। आप विषय को शार्ट टाईम में रिवाइज करेंगे तो अच्छे से पढ पाएगें। आप विषय में दी गई जानकारी की रिविजन करो और जो जानकारी आप लोगे वो आटोमेटिक आपके दिमाग में स्टोर हो जाएगी।
उदाहरण को समझें
(आपने साईंस की किताब उठाई और उसमें प्रश्न को पढकर सीधा उत्तर को रटने में शुरू हो गए। आप हूबहू जैसे लिखा है वैसा याद करोगे, लेकिन ऐसा नहीं करना है। आपको प्रश्न समझना है और उसका उत्तर भी समझना है। हर एक लाईन को अच्छे से समझनी है कि यह काम कैसे करेगी। इससे आप याद कर सकोगे और लिख भी सकोगे।)

कैसे करें पढाई 3

7. प्रश्नों के उत्तरों को विभिन्न तरीकों से पढें
रिसर्च कहती है कि एक इंफ्रोमेशन को आप अलग-अलग तरीकों से पढें और समझे। ऐसा करने से आपको उस प्रश्न की जानकारी ज्यादा आएगी और आपको याद भी रहेगी। आप उस प्रश्न को कक्षा में अलग, घर पर अलग और टयूशन पर अलग तरह से करो। आपको तीनों में से किसी एक जगह पर की गई प्रेक्टिस काम आएगी।
उदाहरण को समझें
(उदहारण के तौर पर आपने एक साईकिल ली। आपने मुझे बताया कि इस साईकिल में यह यह चीजें हैं। आपके भाई ने बताया कि इस साईकिल का यह पूर्जा अलग है। यह पूर्जा ऐसे काम करता है। यह ऐसे करता है, वगैरह वगैरह। ठीक इसी तरह आप साईकिल रूपी प्रश्न को खोल लें और देखें कि इसमें क्या क्या है। जिस तरह आप साईकिल के बारे में सब कुछ जानते हैं, वैसे ही उस प्रश्न के उत्तर के बारे में गुढ जानकारी लें।)

8. एक साथ कई विषय ना पढें।
कई बार होता है कि बच्चा एक साथ एक ही समय में कई नोटस और बुक पढता है और उसका ध्यान एक जगह पर नहीं लगता है। छात्र असल पढाई से भटक जाता है और पढाई नहीं कर पाता है। इस काम की कोशिश आप तब करें जब आपकी स्मरण शक्ति तेज हो जाए।
उदाहरण को समझें
(आपने मैथ की बुक ले ली और इतिहास की बुक भी ले ली और साथ में मोबाईल भी रख लिया। आपने इतिहास पढा और फिर मैथ पढने लग गए। आपके मन में आएगा कि इतिहास कितना अच्छा था, कोई झंझट नहीं, कोई पढाई नहीं बस काम करते रहो। इसलिए आप एक समय में एक ही विषय को तब तक अपने पास रखें जब तक दूसरे की बारी ना आ जाए।)

9. प्रश्न का उत्तर सरल बनाने की कोशिश करें
आप खास प्रश्नों को नोट करें। उनके उत्तर पढें और अपने आप से तीन कडी में उस एक प्रश्न के तीन उत्तर बनाएं।
उदाहरण को समझें
(मान लिजिए आप साईंस की किताब पढ रहें हैं। बडा उत्तर है। आपने एक बार पढा, दो बार पढा वो आपको याद नहीं हुआ। आप एक काम करिए। आप उस प्रश्न का उत्तर थोडा लिखिए, फिर वही प्रश्न दूसरी कडी में लिखकर उसका उत्तर, जो बचा हुआ है वो लिखिए, फिर तीसरी कडी में उसी प्रश्न के साथ उत्तर को लिखिए। आपके पास 1 प्रश्न के 5-5 लाईन के तीन उत्तर हो गए। आप पहले को याद करिए, फिर दूसरे को और फिर तीसरे को याद करिए। आपको जब सभी याद हो जाएंे तो एक प्रश्न का यह सारा ’तीनों कडी मिलाकर’ उत्तर लिख दिजिए।)

10. प्रश्न के आंसर को चेन बनाएं
आप प्रश्न के उत्तर या मैथ के किसी भी सवाल की चेन भी बना सकते है। आप अपनी तरफ से सवाल या उत्तर की एक स्टोरी बनाएं और उसी को ध्यान में रखते हुए प्रश्नों के उत्तर दें और सवालों के जवाब दें।
उदाहरण को समझें
(आपने एक सवाल के फोरमुले को ध्यान में रखना है। आप पहले फोरमुले को अलग नाम दें, फिर दूसरे को अलग नाम दें और तीसरे को अलग नाम दें। यह बिल्कुल आसान है, आप कर सकते हैं। आप बस यह याद रखिए कि जिन सवालों को निकालने के लिए आप जदोजहद कर रहे हैं वे भी किसी ने डेवलेप किए होंगे। अगर उनका दिमाग इतना है तो आप भी अपने दिमाग को डेवलेप करें।)

कैसें करें पढाई 4

11. अपनी नोटबुक में परीक्षा की चिंताए और डर लिखिए
कई बार ऐसा होता है कि हमारी परीक्षा के नजदीक आते आते चितंाए बढ जाती है और डर लगने लग जाता है। डर इस बात का होता है कि परीक्षा में क्या वही आएगा जो हमने पढा है, या अलग आएगा। इस वजह से हमारा दिमाग चिंताग्रस्त हो जाता है। एन मौके पर हम पढा हुआ भूल जाते हैं।
उदाहरण को समझें
(आपका 11 मार्च को पहला पेपर है, जब आपको यह पता चल जाता है कि 11 मार्च को पेपर है तो बस आपका ध्यान इसी 11 मार्च पर चला जाएगा। आप कहीं होगें तो 11 मार्च, खाना खा रहे होंगे तो 11 मार्च यानि हर तरफ 11 मार्च आपको दिखेगी। आप वहंी पढने वाली सीट पर जाएं और देखें कि मुझे डर और चिंता किस बात की है। आप उसे लिख लिजिए। आपका डर और चिंता खत्म हो जाएगी। बशर्ते आपकी तैयारी में कोई कमी ना हो।)

12. कक्षा में सबसे आगे वाले बेंच पर बैठो
एक रिसर्च में पता चला है कि आगे वाले बेंच पर बैठने वाले छात्रों का दिमाग पीछे वाले बैठने वालों की तुलना में ज्यादा होता है। क्योंकि टीचर का ध्यान सामने वाले बेंच के छात्रों पर पहले जाता है। वे क्या कर रहे हैं, टीचर को सब पता होता है और टीचर भी पहले बेंच पर बैठने वाले छात्रों को पंसद करते हैं।
उदाहरण को समझें
(आप पीछे की सीट पर बैठे हैं और आपको सारा कुछ याद है और आप फुल परफोमेंस के लिए तैयार हैं। यह स्वाभाविक है कि पीछे वाली बैंच पर 1 या 2 छात्र ऐसे होते हैं जो पढने कम मस्करी ज्यादा करने आते हैं और वो उन छात्रों को अपने लपेटे में ले लेते हैं जो अपनी पूरी तैयारी के साथ आए हैं। पहले बेंच पर टीचर का ध्यान ज्यादा रहने के कारण पहले बेच वाले छात्र पढाई के अलावा और कुछ नहीं कर सकते। मान लिजिए आपने पीछे की बेंच पर मोबाईल में विडियो देखी, वह वीडियो आपके दिमाग में पूरा दिन रहेगी। अगर आप उस वीडियो को ना देखते तो वो दिमाग में नहीं होती। इसलिए पहले बेंच वाले छात्र सिर्फ पढाई पर फोकस कर पाते हैं।)

कैसें करें पढाई 5

13. हर महीनें स्वंय का एग्जाम लिजिए
आप हर महीनें स्वंय का एग्जाम लिजिए, मतलब पूरी तैयारी करिए और घर पर प्रश्न बनाकर या सवाल लिखकर उनके उत्तर और जवाब लिखिए। आप स्वंय 20 या 30 प्रश्न बनाकर उस टैस्ट को क्लियर करें, आपका मनोबल बढेगा और आपको टैस्ट के बारे में पता चलेगा।
उदाहरण को समझिए
(एक प्रख्यात यूनिवर्सिटी की एक प्रोफेसर ने एक विषय को दो कक्षाओं के छात्रों को पढाया। फिर एक कक्षा को कहा कि तुम इसमें प्रश्न और उत्तर खुद बनाओ, मतलब जो पढाया है उसका टैस्ट बनाओ। दूसरी जो कक्षा थी उस छात्रों को इसके बारे में कुछ नहीं कहा गया। रिसर्च में यह पता चला कि पहली कक्षा के छात्रों ने एग्जाम में शानदार प्रदर्शन किया जबकि दूसरी कक्षा के छात्रों का प्रदर्शन ढीला रहा। चूंकि आपने आईएएस, आईपीएस, आईआरएस, सीए या इसके अलावा कोई ओर लक्ष्य रखा ही है तो इस पर खरा उतरना होगा। आपको मेहनत करके इन लक्ष्य को प्राप्त करना ही होगा। आप एक महीनें में पढे विषयों का खुद से टैस्ट बनाईए और उन्हें क्लियर करके देखिए, आपको बोर्ड का टैस्ट भी फीका लगने लगेगा।)

कैसे करें पढाई 5

14. थोडे समय के बाद ब्रेक लें
आप लगातार 4 या 5 घंटे की पढाई के बजाय कुछ मिनटों की पढाई करें। आप 50 मिनट पढाई के बाद 10 मिनट आराम करें। आप इंस्ट्रयूमेंटल गाने सुन सकते हैं। यानि 10 मिनट आराम करना है। फिर पढाई पर लग जाना है।
उदाहरण को समझें
(आपने लगातार 50 मिनट पढाई की तो आपका शरीर थक जाएगा और उसके साथ साथ दिमाग भी थोडा-थोड काम करना बंद कर देगा। आप 50 मिनट पढने का लक्ष्य बनाकर 10 मिनट आराम करने या कुछ इंस्ट्रयूमेंटल गाने सुनने का अभ्यास करें। इससे आपकी बाॅडी को आराम मिलेगा और दिमाग भी फ्रेश हो जाएगा। फिर दोबारा पढाई शुरू कर दें। )

15. अपने आपको पुरस्कार दें
जब आप कोई भी टास्क पूरा कर लेते हो तो अपने आप को पुरस्कार दें। यह पुरस्कार कुछ भी हो सकता है। आप मोबाइल चला सकते हैं या कुछ भी कर सकते हैं। आप अपने दिमाग को बताओ की पढाई का टास्क पूरा करने के बाद दिमाग को क्या मिलेगा।
उदाहरण को समझें
(आप लगातार पढाई कर रहे हैं, कई बार हम पढ पढकर इतना बोर हो जाते हैं कि दिमाग उल्टा शुरू हो जाता है, इसके लिए आप टास्क पूरा करने पर अपने आपको पुरस्कार दो। फिर अपने आपको कहो कि यदि मेरा एग्जाम अच्छा हो गया और अच्छे रेंक लेकर आया तो मैं वो सब कुछ पा लूगां जो मैंने अभी त्यागा हुआ है।

16. पानी की मात्रा को शरीर में कम न होने दें
कई बार होता है कि हम पढाई में इतने लीन हो जाते है कि हम अपने शरीर की जरूरत के बारे में भूल जाते हैं।
उदाहरण को समझें
(चूंकि शरीर आपका अपना खुद का एक साथी है। अगर उसकी जरूरत को हमने पूरा नहीं किया तो हमें डीहाईड्रेशन का खतरा हो जाएगा और शरीर बीमार रहने लग जाएगा। हमें उसकी जरूरत का हमें ख्याल रखना है। आपको दिन में कम से कम 6 लीटर पानी पीना होगा। पानी भी उबाल कर उसे थोडा नर्म कर लें फिर पी लें। इससे हमारे शरीर को उर्जा मिलेगी और वह लक्ष्य को पाने के लिए हमारी मदद को हमेशा तैयार रहेगा।)

कैसे करें पढाई 6

17. कम से कम 8 घंटो की नींद लें
हम पढाई के दौरान इतना थक जाते हैं कि शरीर का ख्याल नहीं रख पाते हैं और सारा शरीर अकडन पैदा कर देता है जो दिमाग को भी प्रभावित करता है।
उदाहरण को समझें
(मान लिजिए आपने 8 घंटे की पढाई की है। उन 8 घंटो से शरीर आपके साथ रहा है, फिर शरीर को आराम की जरूरत पडने लग गई तो आप दिमाग की सोचेगे तो दिमाग ओर पढाई करने को कहेगा कि लेकिन शरीर मना कर देगा। इस तरह से शरीर का साथ होना भी हमारे लिए बहुत जरूरी है, इसलिए आप कम से कम 8 घंटो की अच्छी नींद लें और शरीर को आराम दें।)

18. माॅर्निंग एक्सरसाईज बहुत जरूरी
अगर हम चाहते हैं कि 8 घंटे के बाद भी हमारा शरीर तरोताजा रहे तो आप सुबह के समय एक्साईज करें। मेडिटेशन करे। योगा करें इससे हमारे शरीर को काफी सुकून मिलेगा और उसके कार्य करने की क्षमता ओर बढ जाएगी।
उदाहरण को समझें
(आप 3 दिन माॅर्निंग एक्सरसाईज ना करें। और तीन दिन करें। फिर आप देखना कि इसके क्या क्या फायदे होते हैं। आप अनुलोम विलोम, कपाल भारती, सूर्य नमस्कार सहित अनेक ऐसे योगा क्रियाएं है जिनको करके अपने शरीर की कार्य क्षमता को बढा सकते हैं।)

 

आर्टिकल लिखने का मकसद
हमारा आर्टिकल लिखने का मकसद यही है कि बच्चे ज्यादा से ज्यादा पढाई करें और खुद को समाज में एक अलग पहचान दें। पढाई को कोई नहीं छीन सकता। अगर आपको कोई घर से निकाल दे, मारे पीटे या कुछ भी करे तो भी आपके ज्ञान को खत्म नहीं कर सकता। आप उस ज्ञान की बदौलत संसार के सभी सुख पा सकते हो। अच्छी शिक्षा पाने के भी कुछ टिप्स होते हैं जो हमने आपको दिए हैं। इन 18 टिप्स को अपनाकर आप जिंदगी में बेहतर शिक्षा पा सकते हो। अगर आपको हमारा आर्टिकल पसंद आए तो कमेंट करके जरूरी बताईएगा।

Thanks for read this article.

read more post

Leave a Reply