भारत के अमीर इंसान, रिस्क लेकर खडा किया अरबों का कारोबार

भारत के अमीर इंसान, रिस्क लेकर खडा किया अरबों का कारोबार
यदि आप अमीर बनना चाहतें हैं। एक अरबपति, करोडपति जैसा बनना चाहते हैं तो आप वैसा ही करें जैसा वे करते हैं क्योंकि आपकी सोच ही आपको अमीर गरीब और मीडिल क्लास की कटैगिरी का बनाती है। अगर आप नौकरी का लक्ष्य रखते हैं तो आप सिर्फ नौकर ही बनेंगे मालिक नहीं। मालिक बनने के लिए रिस्क लें, अपने दिमाग का काफी इस्तेमाल करें क्योंकि साईंस कहती है कि मनुष्य का दिमाग बहुत ज्यादा तेज होता है और वे सिर्फ 10 प्रतिशत ही अपने दिमाग का इस्तेमाल करते हैं। आप अमीरों के विचार पढें, उनकी कार्य शैली देखें और फिर अपने काम में जुट जाएं, आपको कोई भी शक्ति नहीं रोक सकती। आईए जानते हैं भारत के 10 सबसे अमीर व्यक्तियों के बारे में।

मुकेश अंबानी
धीरूभाई अंबानी के बडे बेटे मुकेश अंबानी के बारे में तो आप जानते ही होंगे लेकिन फिर भी इनके जीवन के बारे में आपको जरूर जानना चाहिए। मुकेश अम्बानी रिलायंस इंडिस्ट्रयल के सबसे बडे शेयर होल्डर हैं। रिलायंस कंपनी फोच्र्यून ग्लोबल 500 में लिस्टेड कंपनी है। रिलांयस भारत की सबसे ज्यादा वेल्यूएबल कंपनी है। मुकेश अम्बानी गुजराती परिवार से संबध रखते हैं। आपको पता ही होगा कि रिलायंस जीयो ने कितनी धूम मचाई थी और उसने भारत के करीब 34 करोड लोगों को इस सेवा से जोडा है। मुकेश अम्बानी एशिया के सबसे अमीर आदमी हैं। उनकी टोटल नेटवर्थ 50 बिलियन डाॅलर है यानि भारतीय रूपयों अनुसार करीब 3 लाख 60 हजार करोड रूपए हैं।

Mukesh_Ambani


अजीम प्रेमजी
अजीम प्रेमजी के बारे में मीडिया में काफी सुना होगा। अजीज प्रेमजी विप्रो कंपनी के चेयरमैन हैं। अजीज प्रेमजी बडे इन्वेस्टर भी हैं और बडे दानी सज्जनों में से एक हैं। इन्होंने अपनी कंपनी विप्रो की कमान पिछले 40 सालों से संभाली हुई है। 2010 में दुनिया के 20 सबसे अमीर लोगों में जगह बनाई। इनका जन्म बाॅम्बे में हुआ था, वैसे ये गुजरात से ताल्लुक रखते हैं। अजीम प्रेमजी के पिता बडे बिजनेस मेन थे ओर राईस किंग आफ बरमा के नाम से जाने जाते थे। जब भारत-पाकिस्तान का बंटवारा हुआ था तो जिन्ना ने उनके पिता को पाकिस्तान में शामिल होने को कहा था लेकिन उन्होंने ऐसा नहीं किया ओर भारत में ही बडे बिजनेसमेन के रूप में उभरे। अजीम प्रेमजी ने स्टेनफोड यूनिवर्सिटी से बेचलर आफ इलेक्ट्रिकल की डिग्री ली हुई है। आज इनकी कुल सम्पति करीब 1 लाख 62 हजार करोड रूपए है।

azim premji


राधाकृष्ण दमानी
भारत के बडे इन्वेस्टरों में शामिल, डी-मार्ट के लिए जाने जाने वाले राधाकृष्ण दमानी के पास वर्ष 2002 में सिर्फ एक ही स्टोर था जो मुम्बई में था। उन्होंने धीरे-धीरे अपने व्यावार को बढाया और फिर सफलता की ऐसी सीढी चढे कि पीछे मुडकर नहीं देखा। राधाकृष्ण दमानी ने डी-मार्ट को स्टाॅक मार्किट में लिस्टेड करवाया था। उस वक्त उनके पास 40 हजार करोड की सम्पति थी। आज उनके पास करीब 1 लाख 20 हजार करोड रूपए की सम्पति है।

Radha Krishan Damani


शिव नाडर
भारतीय इंडीस्ट्रयल क्षेत्र के जाने माने शिव नाडर एचसीएल कंपनी के फाउंडर और चेयरमैन है। शिव नाडर ने अपना फोकस बदलते हुए आईटी क्षेत्र में काफी नाम कमाया है। शिव नाडर के आईटी क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने पर उन्हें भारत सरकार ने पदमश्री अवार्ड से भी नवाजा है। शिव नाडर तमिलनाडू से हैं। उन्होंने अपनी पढाई तमिलनाडू के मदुरई में की थी। आज उनके पास 1 लाख करोड रूपए की सम्पति है।

Shiv Nadar


लक्ष्मी मित्तल
दुनिया में स्टील मेकिंग कंपनी के मालिक लक्ष्मी मित्तल दुनिया के टाॅप 10 लोगांे मंे शामिल होने के बारे में बताया जाता है। उन्होंने अपनी पढाई कोलकाता में की थी और ग्रेजूएशन भी वहीं से किया था। उनकी रूचि भी इसी बिजनेस में थी। जब भारत सरका ने स्टील प्रोडक्शन पर बैन लगाया था तो लक्ष्मी मित्तल ने केवल 26 वर्ष की उम्र में इंडोनेशिया में स्टील फैक्ट्री लगाई थी। लक्ष्मी मित्तल के पास करीब 97 हजार करोड रूपए की सम्पति है।

Lakshmi Mittal


उदय कोटक
कोटक महिंद्र बैंक के चेयरमैन, मैनेजिंग डायरेक्टर उदय कोटक के पास आज 84 हजार करोड रूपए की सम्पति है। वे कोटक महिंद्रा बैंक को संभाल रहे हैं। वे मूल रूप से गुजरात के लोहाना से संबध रखते हैं। मैथ में काफी अच्छी पकड होने के कारण उन्होंने इसे अपनाया। उन्होंने मैथ और काॅमर्स में डिग्री प्राप्त की। उदय कोटक को विदेशी कंपनियों से नौकरी के आफर आने लगे थे लेकिन वे नौकरी के आफरों को दरकिनार करते गए और भारत में ही व्यापार करने का निर्णय लिया। उन्होंने देश में कोटक केपिटल मैनेजमेंट की शुरूआत की और अपने काम को बेकिंग के अलग-अलग क्षेत्रों में ले जाने का फैसला किया। 2003 में कोटक महिंद्रा फाईनेंस जिसे आरबीआई ने लाईसैंस दिया, यह कोटक इतिहास में सबसे बडी उपलब्धि थी।

Uday kotak


कुमार मंगलम बिडला
कुमार मंगलम बिडला आदित्य बिडला गु्रप के मालिक हैं। बिडला आईआईटी दिल्ली व आईआईएम अहमदाबाद के चेयरमैंन भी हैं। उनकी परवरिश कोलकाता में हुई थी। पिता की मृत्यु के बाद 28 वर्ष की उम्र में कुमार मंगलम बिडला ने आदित्य बिडला गु्रप को संभाला। जब 1995 में उनकी सम्पति 3 बिलियन डाॅलर थी तो आज कुमार मंगलम बिडला ने अपने पिता की सम्पति को 48 बिलियन डाॅलर कर दिया। भारतीय रूपयों अनुसार कुमार मंगलम बिडला की सम्पति 80 हजार करोड रूपए है।

Kumar Manglam


सायरस पुनावाला
सायरस पुनावाला, पुणे के सेरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया के चेयरमैन हैं। उनकी कंपनी वैक्सीन बनाती है। उनकी कंपनी बाॅयोटेक कंपनियों में से एक है। पुनावाला गु्रप में फार्मास्यूटिकल्स और जैव प्रौद्योगिकी, वित्त, स्वच्छ ऊर्जा, आतिथ्य और वास्तविकता और विमानन शामिल हैं। दुनियाभर के करीब 70 प्रतिशत बच्चों ने एक बार तो उनकी वैक्सीन इस्तेमाल की है। उनका व्यापार कई देशों में है। मेडिसन फील्ड में योगदान के कारण उनको भारत सरकार ने 2005 में पदमश्री अवार्ड से नवाजा गया था। उन्हें एशिया रेसिंग फैडरेशन का वाईस चेयरमैन भी बनाया गया। आज उनकी सम्पति करीब 68 हजार करोड रूपए है।

Cyrs-Poonawala


गौतम अडानी
गौतम अडानी, अडानी ग्रुप के फाउंडर और चेयरमैन हैं। अहमदाबाद बेस्ड मल्टीनेशनल गुप है। उनका बिजनेस कृषि, एनर्जी, डिफैंस व एयरस्पेस है। गौतम अडानी गुजरात अहमदाबाद मंे जैन परिवार से हैं। उनके पिता का टैक्सटाईल मर्चेंट का काम करते थे। उनका भी बिजनेस में इंस्ट्रस्ट था। काॅलेज की पढाई छोडकर उन्होंने खुद का बिजनेस शुरू किया। वे महिंद्रा ब्रदर के लिए डायमंड का आर्डर का काम करते थे। फिर इन्होनें पीवीसी इम्पोर्ट का बिजनेस शुरू किया। आज उनके पास करीब 62 हजार करोड रूपए की सम्पति है।

Gautam Adani


दलीप सांघवी
गुजरात के अमरेली में पले बढे दलीप सांघवी के पास आज 54 हजार करोड रूपए की सम्पति है। उन्होंने बेचलर आफ कामर्स में डिग्री ली हुई है। वे और उनके पिता हाॅलसेल दवाईयों का काम करते थे। उन्होंने एक दिन सोचा क्यों न खुद की दवाई बनाकर बेची जाए। उन्होंने 1982 में 10 हजार रूपए से अपना व्यापार शुरू किया। उन्होंने अपनी कंपनी को बढाया और घाटे में चल रही कंपनियों को एक्वायर किया और उनको घाटे से बाहर निकाला। आज विश्वभर में दलीप सांघवी एक जाना पहचाना नाम है।

Dalip Sanghvi

 

Thanks read this article.

more read article

 

Leave a Reply