शेयर मार्किट क्या है, साधारण भाषा में समझें, कब पैसे लगाएं और कब नहीं

शेयर मार्किट क्या है, साधारण भाषा में समझें, कब पैसे लगाएं और कब नहीं

प सभी के मन में शेयर मार्किट को लेकर काफी कुछ बातें होंगी कि शेयर मार्किट क्या है, ब्रोकर क्या है, कब पैसे लगाएं, उसके पैसे डूब गए तो मैं नहीं लगाता वगैरह-वगैरह। इस तरह की बातों को सोचकर हम अक्सर पीछे हट जाते हैं और शेयर मार्किट से कोसों दूर चले जाते हैं। अगर हमें शेयर मार्किट की अच्छी जानकारी हो जाए और थोडा इनवेस्ट करें तो हम अच्छा खासा रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं या अच्छी कमाई कर सकते हैं। शेयर मार्किट की नाॅलेज न होने के कारण भारत में करीब 4 प्रतिशत लोग यानि 5 करोड 20 लाख लोग ही शेयर मार्किट में इन्वेस्ट करते हैं। शेयर मार्किट में आपको कब पैसा लगाना चाहिए और कब नहीं आज हम आपको बताएगें। आप शेयर मार्किट में पैसा तो जरूर लगाएं लेकिन अच्छी जानकारी लेकर ही लगाएं। कई बार आपके ब्रोकर, म्यूचअल फंड एडवाईजर, स्वतंत्र वित्तिय सलाहकार और धन प्रबंधक आपको अच्छी जानकारी नहीं देते जिस कारण रिटर्न नहीं आने पर आपका मनोबल गिर जाता है और आप शेयर मार्किट से दूर चले जाते हैं। आईए जानते हैं शेयर मार्किट के बारे।

शेयर मार्किट क्या है

N.S.E और B.S.E शेयर मार्किट की मुख्य स्टाक एक्सचेंज है
जिस तरह अपनी सब्जी मण्डी होती है उसी तरह शेयर मार्किट की भी दो सब्जी मंडिया यानि मुख्य स्टाक एक्सचेंज है। एक तो नेशनल स्टाॅक एक्सचेंज (एन.एस.ई) है और दूसरी बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज (बी.एस.ई) है। यहीं पर शेयर खरीदने वाले और बेचने वालों के बीच शेयर्स का लेनदेन होता है। यही दोनों भारत में स्टाक मार्किट के स्वास्थ्य को बताती हैं। यहीं सारे शेयर मार्किट पर नजर रहती है और कब कोनसी कंपनी कैसा प्रदर्शन कर रही है इसका डेटा होता है। यहां पर कार्य करने वाले कर्मचारी दिन रात कम्प्यूटर स्क्रीन पर नजर गडाए रहते हैं।

 

💡 BSE (बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज)
बीएसई (बाॅम्बे स्टाॅक एक्सचेंज) में करीब 5 हजार कंपनिया सूचिबद्ध है जोकि नामी, बडी और सुव्यवस्थित है। बीएसई का मुख्य इंडेक्स सेंसेक्स है।

सेंसेक्स क्या है ? कैसे बना है
बीएसई की मुख्य निर्देशांक यानि इंडेक्स सेंसेक्स में अलग अलग सेक्टर की 30 अच्छी व अच्छे टेक रिकार्ड वाली कंपनिया शामिल है। सेंसेटिव और इंडेक्स शब्द को मिलाकर सेंसेक्स बना है। सेक्सेंस की मूवमेंट इन 30 कंपनी के शेयर के मूल्य की हलचल पर निर्भर होती है।

शेयर मार्किट क्या है

 

 💡 NSE (नेशनल स्टाॅक एक्सचेंज)
जैसा कि उपर बताया गया है कि एन.एस.ई मुख्य स्टाक एक्सचेंज है। एन.एस.ई में करीब 1600 कंपनिया सूचिबद्ध है। नेशनल स्टाॅक एक्सचेंज (एनएसई) का इंडेक्स निफ्टी  है।

निफ्टी (NIFTY) क्या है, कैसे बना है ?
निफ्टी नेशनल स्टाक एक्सचेंज (एन.एस.ई) की मुख्य निर्देशांक यानि इंडेक्स है। निफ्टी में अलग अलग सैक्टर की 50 बडी अच्छी और अच्छे टेक रिकार्ड वाली कंपनी शामिल है, जिसका मतलब है निफ्टी की मूवमेंट इन 50 कंपनियों के शेयर के मूल्य की हलचल पर निर्भर होती है। निफ्टी को निफ्टी फिफ्टी के नाम से भी जाना जाता है।

शेयर मार्किट क्या है

ये सभी कंपनिया लगभग सारे अलग-अलग सेक्टर से चुनी गई होती हैं। इस तरह निफ्टी-सेंसेक्स में अलग-अलग सेक्टर भी कवर हो जाते हैं। मार्किट का हाल जानने के लिए सारी कंपनियों का पता लगाना काफी मुश्किल है, तभी यह सेंसेक्स और निफ्टी बनाया है ताकि आप मार्किट का परफोमेंस देखकर पता लगा सकते हो कि आज मार्किट ग्रो कर रही है या नीचे आ रही है। जब निफ्टी और सेंसेक्स अप होते हैं तो स्टाॅक मार्किट अप होती है और यदि डाउन होतें हैं तो स्टाॅक मार्किट डाउन होती है। वैसे एनएसई और बीएसई के ओर भी कई इंडेक्स हैं लेकिन निफ्टी और सेंसेक्स मुख्य इंडेक्स में आते हैं।

 

P.E चेक करते रहिए
Price Earning Ratio शेयर मार्किट की मेन रीढ होता है। अगर इसे चेक करे बिना आप शेयर मार्किट में जाते हैं तो नुकसान होने के चांस बढ जाते हैं। इसलिए आप एनएसई या बीएसई की वेबसाईट पर पीई चेक करते रहें।


क्यों करें P.E चेक ?
शेयर मार्किट 10 तक नीचे जाती है। इससे ओर नीचे जा सकती है लेकिन अमूमन उपर ही रहती है। और सबसे उपर 30 पर जाती है। अगर प्राईज अर्निंग रेशियो 10, 11, 12 है तो आप इसमें इनवेस्ट कर सकते हैं। यह आपके लिए अच्छा मौका साबित होगा। अगर 25, 26, 27, 28, 29, 30 है तो आप संभल जाईए यह शेयर मार्किट में उतरने का समय नहीं है। अगर आपको लगता है कि सही है तो आप इन्वेस्ट करिए लेकिन संभल कर।

 

जानिए शेयर मार्किट के धुंरधरों के बारे में
सबसे पहले आपको शेयर मार्किट के धुंरधर कहे जाने वाले लोगों के बारे में जानना चाहिए। उन्होंने कैसे शेयर मार्किट से करोडों अरबों कमाए हैं और पूरे विश्व में अपनी एक अलग पहचान बनाई है।


वारेन बफेट

शेयर मार्किट से पैसे कमाने वाले वारेन बफेट का नाम सूचि में अगर प्रथम स्थान पर लाया जाए तो कोई अतिशयोक्ति नहीं होगी। 13 साल की उम्र में जो लडका गेम खेलता है, काॅर्टून देखता है उस उम्र में वोरेन बफेट ने पैसे कमाने शुरू कर दिए थे। हालांकि उनकी पारिवारिक स्थिति काफी अच्छी थी लेकिन उन्होंने अपने छोटे-मोटे व्यवसाय शुरू किए। छोटे-छोटे काम करके खुद पैसे इकटठा किए और शेयर मार्किट में लगाता गया। आज वोरेन बफेट के पास कई हजार करोड की संपत्ति है वो भी सिर्फ शेयर मार्किट से। वारेन बफेट के गुरू बेनजिंम ग्राहम थे। वे अपने गुरू से शिक्षा लेते रहते थे। वे उन्हें शेयर मार्किट समझाते रहे जिससे वारेन बफेट सीखते चले गए और शेयर मार्किट की दुनिया पर राज कर लिया।

शेयर मार्किट क्या है


राकेश झुनझुनवाला
राकेश झूझूनवाला का नाम अगर आपने नहीं सुना तो आप इंटरनेट पर सर्च करके उनके बारे में देख लिजिए। राकेश झूझूनवाला को भारतीय वारेन बफेट कहा जाता है। उन्होंने शेयर मार्किट से पैसा कमाकर दुनियाभर में अपना नाम कमाया है। राकेश झुनझुनवाला एक अरबपति निवेशक और व्यापारी हैं। वह एक चार्टर्ड अकाउंटेंट हैं। राकेश झुनझुनवाला की कंपनी का नाम रारे इंटरप्राइजेज है, जिसका पोर्टफोलियो प्रबन्धन राकेश स्वयं करते हैं। राकेश झुनझुनवाला ने शेयर मार्किट में सफल होने के 4 मंत्र दिए हैं।

  • व्यापार में निवेश करें, न कि किसी कंपनी में
  • लाभ को बढ़ाएं और नुकसान को कम करें
  • हमेशा स्वतंत्र राय रखें, खुले दिमाग से सही जानकारी की जांच-परख करें
  • अवसर का फायदा उठाएं
शेयर मार्किट क्या है
Rakesh Jhunjhunwala

रामदियो अग्रवाल
रामदियो अग्रवाल शेयर मार्किट के जाने माने धुरंधर है। वे चाटर्ड अकाउटेंट हैं और मोतीलाल ओसवाल फाइनेंशियल सर्विसेज के ज्वाइंट एमडी हैं। उन्होंने शेयर मार्किट में अपना लक आजमाया और आज हजारों करोड के मालिक हैं। उन्होंने भी शेयर मार्किट में आने वाले लोगों को सफलता के चार मंत्र दिए हैं।

  • अनुशासन यानी डिसिप्लिन
  • डायवर्सिफिकेशन, विविधीकरण
  • कीमत और मूल्य के बीच अंतर करने की क्षमता
शेयर मार्किट क्या है
Ramdeo


डा. विजय किशनलाल केडिया

डॉ. विजय किशनलाल केडिया एक भारतीय निवेशक व्यापारी है जो मुंबई से बाहर है। जिस उम्र में नौजवान युवक का खून गर्म होता है और वह दूसरांे कामों में उलझा होता है, उस वक्त विजय किशनलाल केडिया शेयर मार्किट में उतर आए थे। आज केडिया के पास भी हजारों करोड की सम्पति हैं। श्री केडिया और उनकी कंपनी-केडिया सिक्योरिटीज प्राइवेट लिमिटेड है। कई सूचीबद्ध कंपनियों में सबसे बड़े शेयरधारक हैं। केडिया आईआईएम अहमदाबाद और आईआईएम बैंगलोर में मुख्य वक्ता थे। उन्होंने बॉम्बे स्टॉक एक्सचेंज में एक भाषण भी दिया है। उन्हें लंदन बिजनेस स्कूल में बोलने के लिए आमंत्रित किया गया था। उन्हें इकोनॉमिक टाइम्स द्वारा मार्केट मास्टर के रूप में वर्णित किया गया है। 2016 में विजय केडिया को प्रबंधन के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए डॉक्टरेट की उपाधि से सम्मानित किया गया।

शेयर मार्किट क्या है
Dr. Vijay Kedia


राधा कृष्ण दमानी
बडे निवेशक राकेश झुनझुनवाला ने राधा कृष्ण दमानी को स्टॉक मार्केट का गुरु बोला है, क्योंकि उन्होंने बहुत कम समय में शेयर बाजार में अपनी पहचान बना ली। वह एक शेयर बाजार निवेशक, शेयर दलाल, व्यापारी और संस्थापक और डी मार्ट कम्पनी के प्रमोटर हैं। उन्होंने शांत रहकर शेयर मार्किट में अपना पैर जमाए रखा और उन्होंने अपनी कंपनी के मुनाफे को 2.5 गुणा बढा दिया है।

शेयर मार्किट क्या है
Radha Krishan Damani


इन्वेस्टमेंट कई प्रकार की होती है और उनमें कई प्रकार का रिटर्न मिलता है

  • फिक्स डिपाजिट
    फिक्स डिपाजिट पर आपको लगभग 7 प्रतिशत का रिटर्न मिलता है।
  • डेट फंड
    डेट फंड में अगर आपको रिटर्न चाहिए तो वह आपको करीब 6 प्रतिशत ही मिलेगा।
  • रियल इस्टेट
    रियल इस्टेट में 5 प्रतिशत का रिटर्न आपको मिल सकता है।
  • गोल्ड
    गोल्ड में आपको 5 प्रतिशत का रिटर्न मिलता है।
  • सेविंग
    सेविंग में 4 प्रतिशत का रिटर्न आपको मिलता है।
  • करंट
    करंट में आपको कुछ मिलता ही नहीं इसलिए इसका रिटर्न 0 होगा।
    (समय के साथ प्रतिशत घट और बढ भी सकता है।)


सबसे शानदार और तेज रिटर्न देने वाले दो प्रकार

  • म्यूचूअल फंड
    अगर आप म्यूचूअल फंड में पैसा डालते हैं तो आपको 12 प्रतिशत का इन डायरेक्ट रिटर्न मिलेगा।
  • शेयर मार्किट
    डायरेक्ट रिटर्न और वो भी अच्छा तो आपको शेयर मार्किट में 18 प्रतिशत रिटर्न मिलेगा।
    (समय के साथ प्रतिशत घट और बढ भी सकता है।)

 


कुछ सालों पहले पीई का प्रदर्शन कुछ इस प्रकार था

शेयर मार्किट की उचाईयां
वर्ष 1999 में पीई 12 था तो रिटर्न मार्किट में 105 प्रतिशत आया था। इसी तरह 2003 पीई 11 था तो मार्किट में रिटर्न 116 प्रतिशत आया था और 2008 में पीई 10 था तो मार्किट में 130 प्रतिशत रिटर्न एक साल में आया था। इस दौरान जिसने भी शेयर मार्किट में पैसा लगाया था उनकी एक तरह से बल्ले-बल्ले हो गई।

जब शेयर मार्किट हुआ था धडाम
2000 में पीई 28 था तो -53 प्रतिशत रिटर्न मार्किट में आया था। इसी तरह 2008 में पीई 28 था तो -64 रिटन आया था मार्किट में। इस दौरान शेयर मार्किट में पैसा लगाने वालों को काफी नुकसान हुआ।

 

आखिर क्यों पीछे हैं भारतीय
शेयर मार्किट का नाम सुनकर लोग वैसे ही डर जाते हैं। कईयों को नाॅलेज नहीं होती और कईयों को यह स्कैम लगता है। भारत में शेयर के नाम पर कई फ्राॅड भी हुए है जिनसे लोगो का शेयर मार्किट से विश्वास भी उठ गया है।

 

यूएसए में 50 प्रतिशत निवेशक
यूनाईटेड स्टेट आफ अमेरिका की आधी जनसंख्या शेयर मार्किट में है। वहां की जनसंख्या अगर 30 करोड है तो 15 करोड लोग आपको शेयर मार्किट में मिल जाएगें। तभी वे विकासशील देश हैं और हर अमेरिकी करोडपति है।


इस तरह आप सोच समझ कर शेयर मार्किट में कदम रखें। अगर सफल हो गए तो आपको लखपति, करोडपति और अरबपति बनने से कोई नहीं रोक सकता।

read more post

 

यहां दर्शायी गई जानकारी किताबों, सोशल मीडिया, प्रबुद्ध जन से ली गई है। कृप्या किसी भी कंपनी में इन्वेस्ट करने से पहले पूरी जांच पडताल कर लें।

Leave a Reply